Motivational Short Stories

संगठन की ताकत – Motivational Story In Hindi

sangathan-kee-taakat-hindi-motivational-story
Written by Abhishri vithalani

संगठन की ताकत – Motivational Story In Hindi

एक व्यक्ति था जो की अपने संगठन में हमेशा बहुत ज्यादा सक्रिय रहता था । उस व्यक्ति को कई सारे बड़े लोग जानते थे । उसका मान – सम्मान भी लोगो के बिच काफी अच्छा था ।

किन्तु किसी कारण की वजह से एक दिन उस व्यक्ति को अपने संगठन से निष्क्रिय होना पड़ा । अब वो अपने संगठन के लोगो को मिलता भी नहीं था और धीरे – धीरे वो अपने संगठन से दूर हो गया ।

कुछ समय ऐसे ही बीत गया । एक दिन ठंड की रात में उस संगठन के मुखिया ने इस व्यक्ति से मिलने का फैसला किया । मुखिया इस व्यक्ति के घर पर पहुंच जाते है । उसके घर जाकर मुखिया देखते है की ये व्यक्ति अकेला ही बैठा है ।

ये व्यक्ति जलती हुई लकड़ियों के सामने आराम से बैठकर आग ताप रहा था । मुखिया को देखते ही इस व्यक्ति ने उनका खामोशी के साथ स्वागत किया ।

अब मुखिया और वो व्यक्ति दोनों चुप चाप बैठकर आराम से आग ताप रहे थे । कुछ समय के बाद संगठन के मुखिया ने आग में से एक लकड़ी को उठाकर अलग कर दिया और फिर से अपनी जगह पर आकर बैठ गए । वो व्यक्ति ये सब देख रहा था ।

वो व्यक्ति बहुत समय से अकेला था इसलिए मुखिया के घर आने पर वो अंदर से बहुत खुश था । मुखिया ने आग में से जिस लकड़ी को अलग रख दिया था उस लकड़ी की आग धीरे – धीरे पूरी तरह से बुज गयी थी । अब उस लकड़ी में आग की तपन खत्म हो गई और वो एक काला टुकड़ा बनकर रह गया था ।

बिल गेट्स और अखबार बेचने वाला – Moral Story In Hindi

सबसे अच्छा कौन ? – Motivational Story In Hindi

Short Story In Hindi With Moral Value

मुखिया और वो व्यक्ति दोनों कम शब्दों में बातें कर रहे थे । जब मुखिया के जाने का समय हुआ तब उन्होंने उस अलग पड़ी लकड़ी जो की एक काला टुकड़ा बन गयी थी उसे उठाया और फिर से आग में डाल दिया । ऐसा करने से वो लकड़ी फिर से जलने लगी और अपना ताप बिखरने लगी ।

अब मुखिया जा रहे थे । वो व्यक्ति भी मुखिया को दरवाजे तक छोड़ने गया और उनसे ये भी कहा की मेरे घर पर पधारने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद ।

मुखिया ने बिना कुछ बोले ही उस व्यक्ति को एक अच्छा पाठ पढ़ाया । एक अकेले व्यक्ति का कोई अस्तित्व नहीं होता, अगर वह संगठन के साथ होता है तो वह चमकता है । किन्तु संगठन से अलग होते ही वह बुझ जाता है । उस व्यक्ति को भी मुखिया की बात समज में आ गयी और वो फिरसे अपने संगठन में जुड़ गया ।

अगर आपको हमारी Story ( संगठन की ताकत – Motivational Story In Hindi ) अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ भी Share कीजिये और Comment में जरूर बताइये की कैसी लगी हमारी Story ।

About the author

Abhishri vithalani

I am a hindi blogger. I like to write stories in hindi. I hope that by reading my blog you will definitely get to learn something and your attitude of living will also change.

Leave a Comment