Inspiring Short Stories

पैसो से भी मूल्यवान – Inspirational Story

Written by Abhishri vithalani

पैसो से भी मूल्यवान – Inspirational Story

ये कहानी उन लोगो के लिए है जो ऐसा समझते है की हमारी ज़िंदगी में पैसो से भी मूल्यवान कुछ नहीं हो सकता । सच तो ये है की अपने परिवार को समय देना पैसो से भी मूल्यवान होता है ।

एक आदमी ऑफिस में काम करता था । वो हररोज सुबह उठता और ऑफिस जाता था । शाम को वो देर से घर वापिस लोटता था । एक दिन वो घर पर कोई कारन से जल्दी आ गया था । उसके ६-७ साल के लड़के को पापा को घर पर देखकर आश्चर्य हुआ ।

लड़के ने अपने पापा को देखकर उनसे सवाल पूछा की पापा आप सारा दिन इतना काम करते हो तो फिर आपको आपकी कंपनी कितना पगार देती है । उस आदमी ने जवाब दिया की मुझे हर घंटे काम करने पर ५०० रुपये मिलते है ।

बेटे ने अपने पिताजी से कहा की पापा आप मुझे अभी ३०० रूपये दो । मुझे अभी ३०० रूपये की जरूरत है । रूपये देने की बात तो दूर की रही वो आदमी ने अपने बेटे को एक थप्पड़ लगा दिया । उसका बेटा रोता हुआ वहा से चला गया ।

कुछ देर के बाद पिता ने सोचा की मेरा बेटा कभी भी मुझसे पैसे नहीं मांगता है फिर आज क्यों मांगे । पिताजी बेटे के पास गए और अपने बेटे को ३०० रूपये दिए । पापा ने अपने बेटे से पूछा की बेटा तुम मुझे ये बताओ की ये ३०० रूपये का तुम क्या करने वाले हो ?

बेटा खड़ा हुआ और उसने अपने गुल्लक में से सारे पैसे निकाले और उन पैसो में अपने पापा से लिए थे वो ३०० रूपये भी जोड़े । वो ये पैसे लेकर अपने पापा को दे रहा था । उसके पिताजी ने कहा की बेटा तुम ये क्या कर रहे हो ।

बेटे ने कहा की पापा आप मुझे अभी बता रहे थे की आप को अपनी कंपनी हर घंटे काम करने पर ५०० रूपये देती है । मेरे पास अपने गुल्लक में २०० रूपये जमा हुए थे । आपने मुझे ३०० रूपये दिए और वो सब मिलकर ५०० रूपये हो गए ।

में ये ५०० रूपये आपको देना चाहता हु और आपसे १ घंटे का समय खरीदना चाहता हु । आप मुझे अपना १ घंटा दो और मेरे पास बैठ के बाते कीजिये । बेटे की ये बात सुनकर पिताजी को आश्चर्य हुआ और उन्हें पता चल गया की पैसो से भी मूल्यवान हमारे अपनों को समय देना होता है ।

हमारी लाइफ में भी कई बार ऐसा ही होता है । हम पैसो को इकठ्ठा करने में इतने व्यस्त हो जाते है की अपने परिवार को समय ही नहीं दे पाते है । बाद में हमें पता चलता है की पैसो से भी मूल्यवान हमारे परिवार को समय देना होता है ।

About the author

Abhishri vithalani

I am a hindi blogger. I like to write stories in hindi. I hope that by reading my blog you will definitely get to learn something and your attitude of living will also change.

Leave a Comment