success

KFC के संस्थापक कर्नल हरलैंड सैंडर्स – Success Story Of Colonel Harland Sanders

kfc-ke-sansthaapak-colonel-harland-sanders-success-story-hindi
Written by Abhishri vithalani

KFC के संस्थापक कर्नल हरलैंड सैंडर्स – Success Story Of Colonel Harland Sanders

KFC का नाम तो हम सभी जानते ही है । हम सभी को सिर्फ ये पता है की KFC आज कितना Famous  है, पर ये मालूम नहीं है की उसके Success के पीछा कितनी मेहनत की गयी थी और वो किसने की थी । तो आज हम KFC (Kentucky Fried Chicken ) के संस्थापक कर्नल हरलैंड डेविड सैंडर्स की बारे में बात करने वाले है ।

कर्नल हरलैंड सैंडर्स को लगातार 1008 बार Fail होने के बाद आखिर में सफलता मिली थी । उनको ये सफलता Retired होने के बाद में मिली थी । जिस उम्र में लोग Retired हो जाते है और घर पर बैठ के आराम करते है उसी उम्र में उन्होंने अपने लगातार प्रयत्न से सफलता हासिल की थी ।

कर्नल सैंडर्स का जन्म 9 सितम्बर 1890 को अमरीका के इंडियाना प्रान्त के हेनरिविले नाम के कस्बे में हुआ था । उनका जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था । उनके पिता का नाम “विल्बर डेविड” था । उनके माता का नाम “मार्गरेट एन सैंडर्स” था । वो तीन भाई – बहनो में सबसे बड़े थे ।

कर्नल हरलैंड सैंडर्स के पिता की जब मृत्यु हुई थी तब वो सिर्फ 5 साल के थे । इतनी कम उम्र में पिता की मृत्यु होने के बाद उनकी Life में मुश्किलों का सिलसिला शुरू हो गया । उनके माता ने पिता के चले जाने के बाद एक टमाटो-कैनिंग फैक्ट्री में नौकरी शुरू की और इसी नौकरी से बच्चो का भरण-पोषण होता था ।

कर्नल हरलैंड सैंडर्स छोटे भाई-बहनों की देख-रेख अच्छे से करते थे और अपनी माँ को घर में खाना बनाने में भी मदद करते थे । छोटी सी उर्म्र में इतनी सारी जिम्मेदीरिया उन्हें मिल गयी थी ।

16 साल की उम्र में उन्होंने पढाई छोड़ दी थी । कुछ दिन के बाद उनकी माँ ने दूसरी शादी कर ली और वो अपने बच्चो के साथ अपने पति के घर ग्रीनवुड, इंडियाना चली गई । उनके सौतेले पिता का व्यवहार अच्छा न होंने के कारन कर्नल हरलैंड सैंडर्स घर से भाग गए । 17  साल की उम्र तक तो उन्हें 4 नोकरियो से निकाला जा चूका था ।

18 साल की उम्र में उन्होंने “जोसेफिन किंग” से शादी कर ली थी । उन्होंने अपने कार्यकाल में बहुत सारा और अथक परिश्रम किया था । बस कंडक्टर , आर्मी में काम करने के लिए गए थे , एक लोहार के सहायक के तौर पर काम करते रहे और इसी तरह बहुत सारी नोकरिया की थी पर वो सभी में निष्फल रहे । उन्होंने Life Insurance बेचे, Salesman का काम किया, Tyre और Acetylene Lamp बेचे, इस तरह कई सारे काम भी किये थे पर वो सभी में निष्फल रहे । 19 साल की उम्र में वो एक बेटी के पिता बन गए थे । कुछ समय के बाद उसकी पत्नी अपनी बेटी के साथ उन्हें छोड़ कर चली गयी ।

उसके बाद वो एक होटल में बावरची(Chef) का काम करते थे । वो 40 साल की उम्र तक ऐसे ही एक जगह से दूसरी जगह पर भटकते रहे । आखिर 65 वर्ष की उम्र में वो Retired हो गए । Retired होने के बाद उन्हें सरकार की और से मात्र 105 $ का Check मिला था । उन्होंने कई बार आत्महत्या करने की कोशिश भी की थी पर वो उसमे भी निष्फल रहे ।

एक दिन वो पेड़ के निचे बैठ कर अपनी ज़िन्दगी के बारे में लिख रहे थे तभी उन्हें महसूस हुआ की मेने अपनी Life में कुछ भी नहीं किया है । अभी तो मुझे बहुत कुछ करना बाकि है और में कर सकता हु । उसका एक छोटा सा बिज़नेस था लेकिन उस जगह पर हाईवे बनने जा रहा था उसलिए उसका वो बिज़नेस भी बंद हो गया और उसकी जो भी 105 $ की जमा – पूंजी बची थी वो भी ख़तम हो गयी । उनको अब खाने – पिने के भी लाले पडने लगे ।

धीरूभाई अंबानी -Dhirubhai Ambani Success Story

स्टीव जॉब्स – Success Story Of Steve Jobs

वो जानते थे की वो एक शानदार बावरची(Chef) है । यही से उन्होंने अपने जीवन की शुरुआत की और हार न मानने की जिद पकड़ ली । उनको चिकन बनाना अच्छा लगता था । वो अपने चिकन पर अलग – अलग Expirement भी करते थे । उन्हें अपने चिकन पर पूरा भरोसा था । वो अपने मसाले और प्रेसर कुकर लेकर चिकन बनाने का प्रयोग के मार्केटिंग के लिए निकल गए । वो अपने चिकन को लेकर कही सारे Restaurant में गए और उस Restaurant के मालिकों से भी मिले और अपना Fried Chicken पेस किया लेकिन उसका Fried Chicken किसी को भी पसंद नहीं आया और लोगो ने उसका चिकन नकार दिया ।

कर्नल हरलैंड सैंडर्स ने हार नहीं मानी और वो लगातार Chicken बनाना सीखते रहे और करीब 1008 बार Fail होने के बाद आखिर उन्हें सफलता मिल ही गयी । 1008 Restaurant मालिकों के Reject करने के बाद वो आख़िरकार 1009 वे Restaurant के मालिक ने उनका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया और Fried Chicken की पहली Franchisee Sign कर ली ।

उस Recipe के कारण इस Restaurant की बिक्री में असाधारण रूप से वृद्धि हुई। जिसे देखकर अन्य Restaurant के मालिकों ने भी कर्नल हरलैंड सैंडर्स से Franchisee लेना का प्रारंभ कर दिया और इस तरह KFC Restaurant चेन की शुरुआत हुई ।

यह विश्व का पहला Restaurant चेन था, जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी विस्तारित हुआ था । 1964 तक तो America और Canada में KFC के लगभग 600 Outlet भी खुल गये थे । इसके Outlet England, Maxico, Jamaica में भी खुल गए थे । 1964 में कर्नल हरलैंड सैंडर्स ने 2 मिलियन डॉलर में Kentucky Fried Chicken Corporation एक अमरीकी कम्पनी को बेच दिया । वो आजीवन इसके वैतनिक Brand Ambassador बने रहे ।

16 दिसंबर 1980 में लूकेमिया से कर्नल हरलैंड सैंडर्स का निधन हो गया । लेकिन आज भी वो KFC के Star Icon के रूप में हम सभी के दिलो – दिमाग में जीवित ही है ।

About the author

Abhishri vithalani

I am a hindi blogger. I like to write stories in hindi. I hope that by reading my blog you will definitely get to learn something and your attitude of living will also change.

Leave a Comment