Moral

आशा – Moral Story In Hindi

aasha-moral-hindi-story
Written by Abhishri vithalani

आशा – Moral Story In Hindi

आशा एक ऐसी चीज़ है जो हमें कमजोर बनाती है । ये Story किसी दूसरे पर आशा रखने का क्या नतीजा होता है उसके बारे में है ।

किसी गाँव में एक धनवान सेठ रहते थे । गाँव के सबसे अमीर लोगो में उनका नाम आता था । ठण्ड का मौसम था । सेठ रात को किसी काम के लिए घर से बहार निकलते है । इतनी ठण्ड में रात को घर से बहार निकलते समय सेठ की नजर एक गरीब आदमी पर पड़ी ।

सेठ ने देखा की उनके महल के मुख्य द्वार के पास ये आदमी बैठा हुआ है । फ़टे हुए पुराने कपडे पहने वह आदमी ठण्ड से कांप रहा था । इतनी ठण्ड में उस आदमी को बिना गर्म कपड़ों के देख सेठ चकित रह जाते है ।

सेठ उस आदमी के पास जाते है और उनसे पूछते है की ” क्या तुम्हे ठण्ड नहीं लग रही है ?”

वो गरीब आदमी ने जवाब दिया की लग रही है पर क्या करू ? मेरे पास पहनने के लिए गर्म कपड़े नहीं है । इतने सालो से में कड़कड़ाती ठण्ड में ऐसे ही बिना गर्म कपड़ो के रहता हु ।

उस आदमी ने सेठ से यह भी कहा की भगवान मुझे इतनी शक्ति दे देते है की मैं ऐसी ठण्ड सह पाऊ और जी पाऊ । ये सब सुनकर सेठ को इस गरीब आदमी पे दया आ जाती है । सेठ ने उस आदमी को कहा की तुम यही रुको में अंदर जाकर तुम्हारे लिए गर्म कपडे भिजवाता हु ।

सेठ की बात सुनकर वो आदमी बहुत खुश हो जाता है और उसने सेठ को धन्यवाद भी दिया । उस आदमी को आशा देकर सेठ अपने महल में चले जाते है । महल के अंदर जाकर सेठ अन्य कार्यों में व्यस्त हो जाते है और उस आदमी के लिए गर्म कपड़े भिजवाना भूल जाते है ।

अगली सुबह सेठ के महल में काम करने वाला एक नौकर सेठ को बताता है की बहार एक आदमी मृत पड़ा है ।

मछुआरों की समस्या – Motivational Story In Hindi

ताकत – Inspirational Story In Hindi

अभिमान – Moral Story In Hindi

संतोष – Short Story In Hindi

क्या उस गरीब आदमी की मृत्यु ठण्ड के कारण हुई ?

उस आदमी के मृत शरीर के पास ज़मीन पर एक संदेश लिखा हुआ था, जो उस गरीब आदमी ने अपनी मृत्यु के पूर्व लिखा था ।

वो संदेश यह था की ” इतने सालो से मैं पतली धोती-कुर्ता पहने ही इस ठण्ड को सहता था । किंतु कल रात मेने तुम्हारे पे आशा रखी गर्म वस्त्र देने की और इस आशा ने ही मेरी जान ले ली । ”

Moral : दुसरो पे आशा रखने से हम अक्सर उन पर निर्भर बन जाते है और ये बात हमारी दुर्बलता का कारण बनती है । हमें दुसरो पर निर्भर रहने के स्थान पर स्वयं को सबल बनाने का प्रयास करना चाहिए ।

अगर आपको हमारी Story अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ भी Share कीजिये और Comment में जरूर बताइये की कैसी लगी हमारी Story ।

About the author

Abhishri vithalani

I am a hindi blogger. I like to write stories in hindi. I hope that by reading my blog you will definitely get to learn something and your attitude of living will also change.

Leave a Comment